दैनिक भास्कर में प्रकाशित कविताएं

आज की लड़कियां

मर्यादा के तह में
छिपे गुलामी के चोगे को 
टांग दीं हैं खूंटी पे ।
सभ्य स्त्री के 
प्रतिमान बताने वाले आईने को 
छोड़ आई हैं समुद्र की 
अनंत गहराइयों में ।
पुरुषों को रिझाने वाले 
श्रृंगार के सामान 
को फेंक आई हैं 
असंख्य आकाशगंगा के बीच ।
ये लड़कियां लांघ गयी हैं
वर्षों पुरानी उस ऊंची दीवार को 
जिस के पीछे सदियों से
ये सजती आ रही हैं 
किसी वस्तु की तरह ।
तोड़ डाली हैं उन
अनगिनत अदृश्य बंधनों को 
बंध कर जिससे 
घसटाती आ रही हैं वर्षों से
पुरुषों के पीछे । 
गिरती हैं , हारती हैं , लड़खड़ती हैं 
पर समय के साथ चलती हैं
आज की लड़कियां । 



इश्क़ में पाग़ल लड़कियां

इश्क़ में पाग़ल लड़कियां
पृथ्वी की तरह
नहीं करती परिक्रमा
सूर्य की ।
ये लड़कियां तो माप आती हैं
ब्रह्मांण्ड की अनंत सीमा को
एक ही छलांग में ।

ये नदियों की तरह,
चट्टानों से टकराती
बहती हैं पुरे वेग से धरती पे
यहाँ से वहाँ ।

नही डरती किसी झूठी बदनामी से
नही सोचती कि
पड़ोस के लोग क्या सोचते हैं ?
ये तो इश्क करती हैं
किसी शास्वत क्रिया की तरह
जैसे सूर्य उगता है , हवा चलती है
बारिश होती है , पत्ते झड़ते हैं
इश्क़ में पागल लड़कियां
बने बनाये ढांचे को तोड़
खुद अपनी साँचे तैयार करती हैं  
क्योंकि इश्क़ में पागल लड़कियां ही
ज़्यादा स्वतंत्र होती हैं ।

                       *****
- दैनिक भास्कर (बिहार संस्करण)  में 14 दिसम्बर 2015 को प्रकाशित - 


0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें