लघु प्रेम कथा (लप्रेक) | मार्क्स और प्रेम

लघु प्रेम कथा (लप्रेक)

           मार्क्स और प्रेम


ईश्वर में विश्वास नही था फिर भी ,रोज सुबह ही मंदिर पहुँच जाता वह    इंतजार करता मंदिर की सिढ़ियों पर उसके आने का , आते ही चमक आ जाती उसके चेहरे पर , फिर साथ-साथ चढ़ते दोनों सिढ़ियाँ   आंखें मूंद ,  हाथ जोड़ पूरे भक्ति भाव से करती प्रार्थना मंदिर में स्थापित देवता से और वह मंदिर के एक कोने में खड़ा हो, अपलक निहारता उस इंसान को जिसमें समाहित है उसकी आस्था अभी उसके पॉकेट में हाथ डालो तो निकल आंएगे मार्क्स के दो-चार विचार भले ही उसने चाट रखें हो मार्क्सवाद के पन्ने-पन्ने को पर वह भी नही जानता कि किस विचारधारा ने ले रखा है उसे इस वक्त आगोश में                                                          
दैनिक भास्कर (पटना संस्करण) में 06-04-2015 को प्रकाशित    
                                                                                                                                                                                                                                                                                             

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें